मेंथा तेल की कीमत आज: मेंथा तेल 930 रुपये के करीब है, 1 से 2 दिनों में कैसे लाभ कमाया जाए?

0
7
मेंथा तेल की कीमत आज, भारत में मेंथा तेल की कीमत: मेंथा की गुरुवार को मामूली कमजोरी है।

मेंथा तेल की कीमतें आज: अगस्त वायदा में मेंथा तेल में हल्की कमजोरी देखी जा रही है। मेंथा गुरुवार को 930 रुपये प्रति किलोग्राम पर कारोबार कर रही है। वहीं, मेंथा में 0.65 फीसदी की तेजी आई। 931.9 पर बंद हुआ। बुधवार से पहले लगातार 2 दिनों से बाजार में बिकवाली चल रही थी। इस साल मेंथा को 25 से 26 फीसदी का नुकसान हुआ है। हालांकि विशेषज्ञ अभी भी कह रहे हैं कि मेंथा की भावना कमजोर है। कोरोना युद्धों के कारण, मांग अभी भी ट्रैक पर सही नहीं है। इसी समय, किसानों ने इस वर्ष मेंथा बम्पर का उत्पादन किया है, जिससे बाजार में अधिक आ गया है। निचले स्तर पर चल रही मेंथा की भावना अद्भुत है। ऐसी स्थिति में, अल्पावधि में थोड़ी अधिक गति हो सकती है। लेकिन लंबे समय से मेंथा अभी भी दबाव में है।

पिछले दिनों मेंथा की चाल क्या थी

मेंथा 0.65 प्रतिशत बढ़कर रु। 931.9 पर बंद हुआ। मंगलवार को मेंथा का भाव 1.7 प्रतिशत घटकर 925.9 प्रति किलोग्राम रहा। सोमवार को यह 0.35 फीसदी की गिरावट के साथ 941.9 रुपये पर बंद हुआ था। शॉर्ट कवरिंग पर शुक्रवार को मेंथा 1.74 प्रतिशत बढ़कर 945.2 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुआ। गुरुवार को मेंथा में 1.14 प्रतिशत की गिरावट आई, जिसके बाद यह 915.8 प्रति किलोग्राम पर स्थिर हो गई। बुधवार को मेंथा में करीब 1.43 फीसदी की गिरावट आई। 926.4 प्रति किलो। मंगलवार को मेंथा 1.6 फीसदी गिरकर 999.8 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गई थी।

मेंथा का व्यापार कैसे करें

केडिया एडवाइजरी के निदेशक अजय केडिया का कहना है कि मेंथा आज 920.9 पर समर्थित है। लेकिन अगर यह टूटता है, तो मेंथा आज 909.8 रुपये और फिर 903.5 रुपये का भाव देख सकता है। वहीं, इसका प्रतिरोध 939.3 रुपये पर है। अगर यह स्तर टूट जाता है, तो मेंथा 940.6 रुपये प्रति किलोग्राम हो सकती है। अगर यह स्तर टूटा तो मेंथा 955.7 रुपये पर पहुंच जाएगा। अगर आज हम बात करें, अगर मौजूदा कीमत पर मेंथा 925 से 920 के रेंज में आता है, तो लक्ष्य 950 रुपये निर्धारित करके खरीदा जा सकता है।

मेंथा का औद्योगिक औद्योगिक उपयोग

मेंथा तेल का उपयोग ज्यादातर फार्मा उद्योग, सौंदर्य प्रसाधन उद्योग, एफएमसीजी क्षेत्र के साथ-साथ कन्फेक्शनरी उत्पादों में किया जाता है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक और मेंथा तेल का निर्यातक है। यूपी में मेंथा ऑयल का सबसे ज्यादा उत्पादन होता है। देश के कुल मेंथा तेल उत्पादन में यूपी का हिस्सा लगभग 80 फीसदी है।

पिछले सीजन में मेंथा तेल का उत्पादन बहुत अधिक था। बाजार के सूत्रों के अनुसार, इस साल उत्पादन 40,6-5 टन -66,000 टन तक हो सकता है, 40 प्रतिशत की वृद्धि। इसके कारण मेंथा की उपलब्धता बहुत अधिक थी और कीमतें बहुत अधिक नहीं बढ़ सकती थीं। देश में उत्पादित मेंथा तेल का लगभग 75% निर्यात किया जाता है। इसलिए, घरेलू से ज्यादा विदेशी मांग कीमतों को निर्धारित करने में बड़ी भूमिका निभाती है।

हिंदी में व्यावसायिक समाचार प्राप्त करें, नवीनतम भारत समाचार और शेयर बाजार हिंदी में, निवेश योजना और वित्तीय एक्सप्रेस हिंदी पर कई अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हमें फेसबुक पर लाइक करें, हमें फॉलो करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और स्टॉक मार्केट अपडेट के लिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here